चूहों की दोस्ती

0
147
Read This Also

दो चूहों में गहरी दोस्ती हो गई। इनमें एक शहर का रहने वाला था और दूसरा गांव में रहता था। एक दिन गांव वाले चूहे ने शहर वाले चूहे को आमंत्रित किया। शाम को एक खेत में मुलाकात हुई। अपने साथी को डिनर में जौ के दाने और जड़ें परोसीं। इस पर शहरी चूहा निराश होकर बोला, दोस्त कैसी जिंदगी जी रहे हो तुम। ये जो चीजें तुम खा रहे हो, हमारे शहर में चीटियां भी नहीं खातीं। तभी तो मैं सोच रहा था कि तुम कमजोर क्यों लग रहे हो। ऐसा जीवन किसी काम का नहीं है। मेरी बात सुनो, शहर चलो। हम दोनों खूब डटकर खाएंगे।

शहर का चूहा बोला, शहर के गोदामों में हमारा राज चलता है। जितना मर्जी खाओ, मनमर्जी का खाओ। वह जिद्द करके अपने साथी को शहर लेकर आ गया। यहां एक गोदाम में एंट्री करते ही गांव वाले चूहे की आंखें खुली रह गईं। वह सोचने लगा कि वाकई यह सही कह रह था, शहर में तो बहुत मजे आएंगे। वहां कहां खेतों में दौड़ता रहता।

उसने अपने दोस्त से कहा, जल्दी करो, बहुत भूख लगी है। शहर के चूहे ने कहा, देखते क्या हो, जो चाहे खा लो। गांव के चूहे ने ब्रेड के पैकेट को कुतर दिया। अभी उसने ब्रेड का स्वाद लेना शुरू ही किया था कि अचानक गोदाम का गेट खुलने लगा। गोदाम में रोशनी होते देख शहरी चूहे ने उसको सतर्क कर दिया और दोनों झट से बोरियों के पीछे से होकर जा रही नाली में छिप गए।

थोड़ी देर में दरवाजा बंद हो गया और दोनों चूहे फिर बाहर निकल आए। गांव वाले से शहरी चूहे से पूछा, दोस्त यह सब क्या है। हमें छिपना क्यों पड़ा। क्या कोई आफत थी। शहर वाला चूहा बोला, दोस्त यह सब तो झेलना पड़ता है। लेकिन कोई खतरा नहीं है। कभीकभार ही ऐसा होता है। दोनों एक बार फिर ब्रेड खाने में जुट गए। थोड़ी देर बाद फिर दरवाजा खुला और दोनों को फिर संकरी नाली में छिपना पड़ गया।

इस बार दरवाजा काफी देर तक खुला रहा। तब तक दोनों चूहों के प्राण संकट में रहे। गांव वाले चूहे ने सोचा कि यहां खाने को तो बहुत कुछ है, लेकिन मौत हमेशा सिर पर रहती है। यहां वह सुरक्षित नहीं रह सकेगा। उसने तुरंत फैसला कर लिया कि अब एक मिनट भी शहर में नहीं रहेगा।

उसने शहरी चूहे से कहा, यह सब कुछ तुम ही झेलो। मेरे बस की बात नहीं है। मैं तो गांव जाकर खेतों में घूमूंगा। जहां मन करेगा, वहां रहूंगा और जैसा मिलेगा, वैसा खाऊंगा। मैं तो गांव में ही खुश हूं। तुम चाहो तो मेरे साथ चले चलो। यह कहकर वह गांव की ओर दौड़ लिया। इस कहानी से संदेश मिलता है कि सुरक्षा सबसे पहले है। अपना घर सबसे अच्छा है।

 

You May Like This

LEAVE A REPLY