जज पर लगा एक नाबालिग किशोरी के उत्पीड़न का आरोप

0
93

हरिद्वार के एक जज पर नाबालिग किशोरी के उत्पीड़न का आरोप लगा है। जिला जज राजेंद्र चैहान और एएसपी रचिता जुयाल ने जज के घर से बच्ची को बरामद कर उसका मेडिकल परीक्षण कराया। मेडिकल परीक्षण में किशोरी के शरीर पर चोट के निशान मिले हैं।

एसएसपी कृष्ण कुमार वीके के मुताबिक हाईकोर्ट को हरिद्वार में तैनात एक जज के खिलाफ शिकायत मिली थी। शिकायत में कहा गया था कि जज के घर पर एक नाबालिग किशोरी का उत्पीड़न किया जा रहा है। आरोप था कि बच्ची के साथ मारपीट की जाती है। इस पर संज्ञान लेते हुए हाईकोर्ट ने जिला जज हरिद्वार को सत्यता की जांच का निर्देश दिया था। जिस पर पुलिस की सहायता लेते हुए जिला जज राजेंद्र सिंह चैहान और एएसपी रचिता जुयाल देर शाम जज के घर पहुंचे।

जज के घर से 14 वर्षीय नाबालिग बच्ची को बरामद किया गया। बच्ची को पुलिस सुरक्षा में रखा गया है। पुलिस के मुताबिक मेडिकल परीक्षण में मारपीट की बात सामने आ रही है। उधर, एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने बताया कि बच्ची के शरीर पर चोट के निशान मिले हैं। मामला ज्यूडिशियल से जुड़ा है, इसलिए जिला जज की रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि किशोरी नैनीताल जिले की रहने वाली है।

मेडिकल में पिटाई के सबूत मिले

मेडिकल परीक्षण में यह बात सामने आई है कि किशोरी के साथ बेरहमी से मारपीट की गई है। चिकित्सक के मुताबिक किशोरी के शरीर पर पुराने और नए करीब 20 चोट के निशान हैं। जज के घर से मुक्त कराई गई किशोरी के मामले में पुलिस और सीडब्ल्यूसी (चाइल्ड वेलफेयर कमेटी) ने एडीजे चतुर्थ वरुण कुमार की कोर्ट में किशोरी के बयान दर्ज कराए। हरिद्वार पुलिस ने पूरे मामले की रिपोर्ट जिला जज राजेंद्र सिंह चैहान को भेज दी है।

You May Like This

LEAVE A REPLY