इसरो अपने सैटेलाइट के जरिए पूरे पाकिस्तान पर नजर रख सकती है

0
64

भारत की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो अपने सैटेलाइट के जरिए पूरे पाकिस्तान पर नजर रख सकती है। इसरो के सैटेलाइट्स के दायरे में पाकिस्तान का 87 प्रतिशत आता है, जिस पर एचडी तकनीक से हर हरकत का पता लगाया जा सकता है। ये सैटेलाइट सशस्त्र बलों के लिए बालाकोट जैसी एयर स्ट्राइक के लिए महत्वपूर्ण हो सकते हैं।

भारत अपने सैटेलाइट्स के जरिए पाकिस्तान के 8.8 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में से लगभग 7.7 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल पर नजर रखने में सक्षम है। इन एरिया में सैटेलाइट्स के जरिए भारतीय सेना को 0.65 मीटर की उच्च गुणवत्ता की तस्वीरें मिल सकती हैं।

भारत की यह क्षमता दूसरे पड़ोसी देशों के लिए भी है। हमारे सैटेलाइट्स 14 देशों के कुल 55 लाख वर्ग किलोमीटर हिस्से को मैप कर सकते हैं, लेकिन चीन को लेकर डिटेल्स अभी उपलब्ध नहीं है।

17 जनवरी को अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा था कि भारत पाकिस्तानी घरों में झांक सकता है। उन्होंने कहा था, 'भारत का इन्टग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम पाकिस्तान के घरों और बरामदों को देखने में सक्षम है।'

भारतीय सेनाओं की मदद करने वाली प्रमुख सैटेलाइट्स में जीसैट-7, जीसैट-7ए, भारतीय क्षेत्रीय नेविगेशन उपग्रह प्रणाली (आईआरएनएसएस) तारामंडल, मिक्रोसैट, रिसैट और हाल में ही लांच हुई HysIS सैटेलाइट शामिल हैं। सैन्य उपयोग में आने वाली सैटेलाइट्स की गिनती 10 से ज्यादा है। माना जाता है कि इन्हीं उपग्रहों की मदद से भारत ने सितंबर 2016 में पाकिस्तान में पहली सफल सर्जिकल स्ट्राइक की थी। इन उपग्रहों की मदद से किसी खास जगह (एरिया ऑफ इंटरेस्ट-AOI) को फोकस किया जा सकता है।

You May Like This

LEAVE A REPLY