मुख्यमंत्री ने किया पहला सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का उद्घाटन

0
121

मंगलवार को शीशमबाड़ा सेलाकुई में तेज बारिश और खराब मौसम के बावजूद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, महापौर विनोद चमोली, विधायक खजानदास और सहदेव सिंह पुंडीर ने सूबे का पहला सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट एंड रिसाइक्लिंग प्लांट का उद्घाटन किया।

प्लांट में दून शहर समेत इसके आसपास के ग्रामीण एवं निकाय समेत छावनी क्षेत्रों का करीब 350 मीट्रिक टन कूड़ा रोजाना निस्तारित कर उसे खाद में तब्दील किया जाएगा। मुख्यमंत्री व शहरी विकास मंत्री ने दावा किया कि एक साल के भीतर प्रदेश के सभी 92 निकायों में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रक्रिया शुरू कर की जाएगी।

देहरादून में जेएनएनयूआरएम के अंतर्गत वर्ष 2008 में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट बनाने की कवायद शुरू हुई थी। उस दौरान इसका बजट 24 करोड़ रुपये था, मगर यह प्रक्रिया तमाम कानूनी दांवपेंचों में फंस गई और साल-दर-साल प्लांट का निर्माण पीछे होता चला गया। बहरहाल नवंबर-2014 में सुप्रीम कोर्ट व एनजीटी ने प्लांट निर्माण को मंजूरी दी व दो साल टेंडर और बजट की प्रक्रिया चलती रही।

इस कारण इसका बजट 36 करोड़ जा पहुंचा। तीन अक्टूबर 2016 को ग्रामीणों के विरोध, पथराव और उपद्रव के बीच प्लांट का शिलान्यास हुआ और इसके निर्माण में 13 महीने का समय लगा। करीब सवा आठ एकड़ में बने इस प्लांट में बीती एक दिसंबर से कूड़ा डालना शुरू किया गया था, लेकिन प्रोसेसिंग कार्य उद्घाटन नहीं होने के चलते लटका हुआ था। मुख्यमंत्री से समय मिलने पर निगम ने उद्घाटन का दिन मंगलवार तय किया था।

ये हालात बन गए कि कूड़े के साथ ही मंच बनाकर कुर्सियां लगानी पड़ीं लेकिन दुर्गंध के चलते वहां मुख्यमंत्री रुके ही नहीं। वह मैदान में उसी जगह आ गए जहां पहले से मंच बनाया हुआ था। हालांकि, पंडाल में चुनिंदा ही लोग थे, मगर मुख्यमंत्री ने वहीं से संबोधन शुरू किया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कूड़े से बिजली बनाई जा रही है और उत्तराखंड भी ऐसे प्रयास कर रहा है।

उन्होंने कहा कि इससे हवाई ईंधन भी बन सकता है। ऐसे में निगम को प्रयास करना चाहिए कि कैसे प्लांट का और सदुपयोग किया जा सके। महापौर ने कहा कि प्लांट शुरू कराना उनका ड्रीम प्रोजेक्ट था। इससे न केवल दून शहर बल्कि इससे सटे तमाम निकाय, ग्राम-सभा और छावनी परिषदों में कूड़ा निस्तारण का लाभ होगा। कार्यक्रम में भाजपा के जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर व महानगर अध्यक्ष विनोद गोयल भी मौजूद रहे।

अब हरिद्वार-हल्द्वानी पर फोकस

शहरी विकास मंत्री ने कहा कि देहरादून के बाद हरिद्वार व रुड़की में कूड़े से ऊर्जा बनाने वाले प्लांट तैयार होने वाले हैं। फिर सरकार का फोकस हल्द्वानी पर रहेगा और सालभर के भीतर सभी निकायों को कूड़ा निस्तारण से जोड़ दिया जाएगा। उत्तराखंड देश का पहला राज्य बनेगा, जहां हर एक निकाय में कूड़ा निस्तारण होगा। कौशिक ने कहा कि भाजपा सरकार आने के महज नौ माह के अंदर दून का प्लांट तैयार करा दिया गया।

You May Like This

LEAVE A REPLY