महिलाओं को सशक्त बनाने और विज्ञान के अधिकाधिक उपयोग पर हुआ मंथन

विज्ञान भारती के महिला प्रकल्प शक्ति एवं उत्तराखंड कॉउन्सिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी UCOST के सयुंक्त तत्वाधान में एक दिवसीय सेमिनार

0
322
Read This Also

रिपोर्ट … page3news.co.in
देहरादून। ऑफिसर ट्रांजिट होस्टल देहरादून में विज्ञान भारती के महिला प्रकल्प शक्ति एवं उत्तराखंड कॉउन्सिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी UCOST के सयुंक्त तत्वाधान में एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें महिलाओ के स्वास्थ, सुरक्षा एवं महिलाओं का विज्ञान में योगदान जैसे मुख्य विषयों पर विस्तृत जानकारी दी गई। खासतौर से पहाडी उत्तराखंड की महिलाओं को कामकाज में कैसे सहूलित हो इस पर मंथन किया। तय हुआ कि इसके लिए आगे काम किया जाएगा।

मुख्य वक्ता डॉ राधिका रतूड़ी ने महिलाओं के स्वास्थ के बारे में जानकारी दी। डॉ ज्योति शर्मा, शक्ति की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुधा तिवारी, डॉ अलकनंदा अशोक, डॉ महेश भट्ट विज्ञान भारती के अध्यक्ष, प्रजातंत्र गंगेले प्रान्त संगठन मंत्री विज्ञान भारती साथ में UCOST से भी कई वैज्ञानिकों ने प्रतिभाग किया इस कार्यक्रम को सफल बनाने में शक्ति उत्तराखंड से रजनी सिन्हा, एकता त्रिपाठी, स्मिता सेमवाल से अथक प्रयास किये। महिला प्रौद्योगिकी संस्थान की ओर से विज्ञान भारती के शक्ति प्रकल्प के बीच महिलाओं को प्रौद्योगिकी में दक्ष बनाने के लिए MOU करने की बात हुई।
शक्ति उत्तराखंड की कार्यकारिणी का भी गठन किया गया। रजनी सिन्हा को प्रदेश अध्यक्ष एकता त्रिपाठी को सचिव व स्मिता सेमवाल को कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया। राष्ट्रीय सेविका समिति की प्रांत कार्यवाहिका डॉ अंजलि वर्मा ने सेल्फ डिफेंस के ऊपर महिलाओं को प्रभावी जानकारी दी। वंदना श्रीवास्तव, हिमांगी रावत, परविंदर कौर, सीमा सिंह रजनी अस्थाना (सुचित्रा अग्रवाल समग्र संस्था से) डॉ आभा सिंह एवं अधिवक्ता प्रतिभा जायसवाल ने भी महिलाओं को अपने अधिकारों के बारे में जानकारी दी। इस दौरान अनुराधा सिंह, डॉ सुमन मंद्रवाल, डॉ गिरीश सेमवाल, दीपेंद्र त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।

You May Like This